कागज की नाव होना मुहावरे का क्या अर्थ है

0 votes
387 views
asked in General Knowledge by

1 Answer

answered by
Kagaz ki

Related questions

मेरा माँझी मुझसे कहता रहता था बिना बात तुम नहीं किसी से टकराना । पर जो बार-बार बाधा बन के आएँ, उनके सिर को वहीं कुचल कर बढ़ जाना । जानबूझ कर जो मेरे पथ में आती है, भवसागर की चलती-फिरती चट्टानें । मैं इनसे जितना ही बचकर चलता हूँ, उतनी ही मिलती हैं, ये ग्रीवा ताने । रख अपनी पतवार, कुदाली को लेकर तब मैं इनका उन्नत भाल झुकाता हूँ । राह बनाकर नाव चढ़ाए जाता हूँ, जीवन की नैया का चतुर खिवैया मैं भवसागर में नाव बढ़ाए जाता हूँ। (क) राह में आने वाली बाधाओं के साथ कवि कैसा व्यवहार करता है (ख) कवि ने हमें क्या प्रेरणा दी है ? स्पष्ट कीजिए । (ग) कवि ने अपना माँझी किसे कहा है ? (घ) उन्नत भाल' का क्या आशय है ? (ङ) जीवन की नैया का चतुर खिवैया' किसे कहा गया है।

0 answers asked May 13, 2019 by anonymous
Made with in Patna
...