कबीर को 'वाणी का डिक्टेटर' किसने कहा था?

0 votes
3.9k views
asked in General Knowledge by
आचार्य रामचन्द्र शुक्ल
हज़ारी प्रसाद द्विवेदी
चन्द्रधर शर्मा गुलेरी
राहुल सांकृत्यायन

3 Answers

answered by
हज़ारी प्रसाद द्विवेदी
→ हज़ारी प्रसाद द्विवेदी हिन्दी के शीर्षस्थ साहित्यकारों में से एक थे। वे उच्चकोटि के निबन्धकार, उपन्यासकार, आलोचक, चिन्तक तथा शोधकर्ता थे। 'हिन्दी साहित्य की भूमिका' हज़ारी प्रसाद द्विवेदी के सिद्धान्तों की बुनियादी पुस्तक है, जिसमें साहित्य को एक अविच्छिन्न परम्परा तथा उसमें प्रतिफलित क्रिया-प्रतिक्रियाओं के रूप में देखा गया है। अपने फक्कड़ व्यक्तित्व, घर फूँक मस्ती और क्रान्तिकारी विचारधारा के कारण कबीर ने उन्हें विशेष रूप से आकृष्ट किया। भाषा भावों की संवाहक होती है और कबीर की भाषा वही है। वे अपनी बात को साफ़ एवं दो टूक शब्दों में कहने के हिमायती थे। इसीलिए हज़ारी प्रसाद द्विवेदी ने उन्हें "वाणी का डिटेक्टर" कहा है।अधिक जानकारी के लिए देखें:-हज़ारी प्रसाद द्विवेदी
answered by
2 हजिरी प्रसाद दिवेदी
answered by
Hazari Prasad

Related questions


हज़ारी प्रसाद द्विवेदी
आचार्य रामचंद्र शुक्ल
मैथिलीशरण गुप्त
नामवर सिंह
1 answer asked Feb 10, 2019 in हिन्दी by anonymous
Made with in Patna
...