1. निम्नलिखित पदों को उनके अर्थ से मिलाएँ(1) विश्वास बहाली के उपाय (कोंफिडेन्स बिल्डिंग मेजर्स - CBMs)(2) अस्त्रा-नियंत्राण(3) गठबंधन(4) निरस्त्राीकरण(क) कुछ खास हथियारों के इस्तेमाल से परहेज(ख) राष्ट्रों के बीच सुरक्षा-मामलों पर सूचनाओं वेफ आदान-प्रदान की नियमित प्रक्रिया(ग) सैन्य हमले की स्थिति से निबटने अथवा उसके अपरोध् के लिए कुछ राष्ट्रों का आपस में मेलकरना।(घ) हथियारों के निर्माण अथवा उनको हासिल करने पर अंकुश |

0 votes
19 views
asked in political-science by

1 Answer

answered by
 (1) विश्वास बहाली के उपाय     (ख) राष्ट्रों के बीच सुरक्षा- मामलों पर सूचनाओ के आदान-प्रदान                                  की नियमित प्रक्रिया |(2) अस्त्र नियन्त्रण             (घ) हथियारों के निर्माण अथवा उनको हासिल करने पर अंकुश |(3) गठबंधन                  (ग) सैन्य हमले की स्थिति से निपटने अथवा उसके अपरोध के                                  लिए कुछ राष्ट्रों का आपस में तालमेल करना |(4) निःशस्त्रीकरण              (क) कुछ खास हथियारों के इस्तेमाल में परहेज | 

Related questions

7. संयुक्त राष्ट्रसंघ की मुख्य शाखाओं और एजेंसियों का सुमेल उनके काम से करें -1. आर्थिक एवं सामाजिक परिषद्2. अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय3. अंतर्राष्ट्रीय आण्विक ऊर्जा एजेंसी4. सुरक्षा-परिषद्5. संयुक्त राष्ट्रसंघ शरणार्थी उच्चायोग6. विश्व व्यापार संगठन7. अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष8. आम सभा9. विश्व स्वास्थ्य संगठन10. सचिवालय(क) वैश्विक वित्त-व्यवस्था की देखरेख।(ख) अंतर्राष्ट्रीय शांति और सुरक्षा का संरक्षण।(ग) सदस्य देशों के आर्थिक और सामाजिक कल्याण की चिंता।(घ) परमाणु प्रौद्योगिकी का शांतिपूर्ण उपयोग और सुरक्षा।(ड.) सदस्य देशों के बीच मौजूद विवादों का निपटारा।(च) आपातकाल में आश्रय तथा चिकित्सीय सहायता मुहैया करना।(छ) वैश्विक मामलों पर बहस-मुबाहिसा(ज) संयुक्त राष्ट्रसंघ वेफ मामलों का समायोजन और प्रशासन(झ) सबके लिए स्वास्थ्य(ज.) सदस्य देशों के बीच मुक्त व्यापार की राह आसान बनाना।

1 answer asked May 11, 2019 in political-science by anonymous
1. देशों की पहचान करें |(क) राजतंत्रा, लोकतंत्रा-समर्थक समूहों और अतिवादियों के बीच संघर्ष के कारण राजनीतिक अस्थिरताका वातावरण बना।(ख) चारों तरफ भूमि से घिरा देश।(ग) दक्षिण एशिया का वह देश जिसने सबसे पहले अपनी अर्थव्यवस्था का उदारीकरण किया।(घ) सेना और लोकतंत्रा-समर्थक समूहों के बीच संघर्ष में सेना ने लोकतंत्रा के ऊपर बाजी मारी।(ड.) दक्षिण एशिया के वेंफद्र में अवस्थित। इस देश की सीमाएँ दक्षिण एशिया के आधिकाश देशों सेमिलती हैं।(च) पहले इस द्वीप में शासन की बागडोर सुल्तान के हाथ में थी। अब यह एक गणतंत्रा है।(छ) ग्रामीण क्षेत्रा में छोटी बचत और सहकारी )ण की व्यवस्था वेफ कारण इस देश को गरीबी कमकरने में मदद मिली है।(ज) एक हिमालयी देश जहाँ संवैधनिक राजतंत्रा है। यह देश भी हर तरफ से भूमि से घिरा है।

1 answer asked May 11, 2019 in political-science by anonymous
9. यदि शासन संविधान के प्रावधानों के अनुकूल नहीं चल रहा, तो ऐसे प्रदेश में राष्ट्रपति-शासन लगाया जा सकता है। बताएँ कि निम्नलिखित में कौन-सी स्थिति किसी प्रदेश में राष्ट्रपति-शासन लगाने के लिहाज से संगत है और कौन-सी नहीं। संक्षेप में कारण भी दें।(क) राज्य की विधान सभा के मुख्य विपक्षी दल के दो सदस्यों को अपराधियों ने मार दिया है और विपक्षी दल प्रदेश की सरकार को भंग करने की माँग कर रहा है|(ख) फिरौती वसूलने के लिए छोटे बच्चों के अपहरण की घटनाएँ बढ़ रही हैं। महिलाओं के विरुद्ध अपराधों में इजाफा हो रहा है।(ग) प्रदेश में हुए हाल के विधान सभा चुनाव में किसी दल को बहुमत नहीं मिला है। भय है कि एक दल दूसरे दल के कुछ विधयिकों से धन देकर अपने पक्ष में  उनका समर्थन हासिल कर लेगा।(घ) केंद्र और प्रदेश में अलग-अलग दलों का शासन है और दोनों एक-दूसरे के कट्टर शत्रु  हैं।(ड) सांप्रदायिक दंगे में 200 से ज्यादा

1 answer asked May 11, 2019 in political-science by anonymous
6. निम्नलिखित कथन इक्वाडोर के बारे में है। इस उदाहरण और भारत की न्यायपालिका के बीच आप क्या समानता अथवा असमानता पाते हैं?सामान्य कानूनों की कोई संहिता अथवा पहले सुनाया गया कोई न्यायिक फैसला मौजूद होता तो पत्राकार के अधिकारों को स्पष्ट करने में मदद मिल सकती थी। दुर्भाग्य से इक्वाडोर की अदालत इस रीति से काम नहीं करती। पिछले मामलों में उच्चतर अदालत के न्यायाधीशों ने जो फैसले दिए हैं उन्हें कोई न्यायाधीश उदाहरण के रूप में मानने के लिए बाध्य नहीं है। संयुक्त राज्य अमेरिका के विपरीत इक्वाडोर ;अथवा दक्षिण अमेरिका में किसी और देश में जिस न्यायाधीश के सामने अपील की गई है उसे अपना फैसला और उसका कानूनी आधारलिखित रूप में नहीं देना होता। कोई न्यायाधीश आज एक मामले में कोई फैसला सुनाकर कल उसी मामले में दूसरा फैसला दे सकता है और इसमें उसे यह बताने की ज़रूत नहीं कि वह ऐसा क्यों कर रहा है।

1 answer asked May 11, 2019 in political-science by anonymous

1 answer asked May 11, 2019 in political-science by anonymous
Made with in Patna
...