यह साइट खासकर के प्रैक्टिस के लिए है, इसलिए अधिकतर प्रश्नो के उत्तर नहीं दिए गए हैं| आप उत्तर देके मदद कर सकते हैं अपनी और दूसरों की भी

अगर मैं सुबह उठ नहीं पाता तो फिर जल्दी उठने के लिए क्या करूं?

0 votes
27 views
asked by

1 Answer

answered by

हर मनुष्य अपनी आदतों का गुलाम होता है जबतक उन्हें बदलने की कोशिश न करे और आदतें बदलने का एक ही तरीका है- दृढ इच्छाशक्ति। इच्छाशक्ति के अभाव में आप कितने भी अलार्म भर लें खुद को जल्दी उठने में असामर्थ्य ही पाएंगे

चाहे नींद आये न आये जल्दी उठ जाईये। एक दिन भारी लगेगा, दो दिन लगेगा, तीन दिन लगेगा पर एक बार आदत बन जाने के बाद न चाहते हुए भी उसी समय उठेंगे और अपने आप ही जल्दी नींद आएगी।

धन्यवाद

Related questions

।।। ।। ॥ 50 तक वस्तुनिष्ठ प्रश्न है। सभी प्रश्न अनिवार्य है। उनका उत्तरदेने के लिए OMR में दिए गए सही वृत्त को काले, नीले पेन से रे। 50x1501. 'पूस की रात' कहानी के लेखक कौन है?(A) रामचन्द्र शुक्ल (B) प्रेमचन्द (C) महादेवी वर्मा3. निम्नलिखित में विष्णभट्ट गोडसे की रचना कौन सी है?(0) जयशंकर प्रसाद| (A) गौरा (B) पर (C) आँखोंदेखा गदर (D) पंच परमेश्वर‘जगरनाथ' शीर्षक कविता के कवि कौन है?(A) आरसी प्रसाद ग्रिह(B) निराला(C) जयशंकर प्रद।12) केदारनाथ सिंह4. कवि नरेश सक्सेना की कौन यो रचना है?(A) कफन {B) तोड़ती पत्र (८) बहुत दिनों के बाद (D) पृथ्वी5. कल गरकि, लेखक को कहा जाता है?(A) महावीर प्रसाद द्विवेदी । (B) हजारी प्रसाद द्विवेदी को(c) प्रेमचन्द को(D) रामवृक्ष बेनीपुरी को5. गालिब गैर नहीं अपने से अपने हैं' वाक्य किस पाठ से उद्धत है?| () बहुत दिनों के बाद (B) गालिब (C) दोहा (D) जगरनाथमारा ई =हित्य क

0 answers asked May 11, 2019 by anonymous
Made with in Patna
...