sawalzawab.com| ग्रह क्यों नहीं चमकते है?

0 votes
asked in General Knowledge by

1 Answer

answered by
अदीप्त वस्तुएँ हैं | केवल वही वस्तुएँ चमकती हैं जिनमें स्वयं का प्रकाश होता है | ग्रहों में स्वयं का प्रकाश नहीं होता | सूर्य तथा अन्य तारे अपने अंदर चलने वाले रासायनिक अभिक्रियाओं के कारण दीप्तमान हैं | जबकि ग्रहों में प्रकाश उत्पन्न करने के लिए ऐसी कोई व्यवस्था नहीं है. , अतः ग्रह चमकते नहीं  हैं |

Related questions

sawalzawab.com| प्र2.निम्नलिखित काव्यांश को ध्यानपूर्वक पढ़कर पूछे गए प्रश्नों के उत्तर दीजिए-हँस लो दो क्षण खुशी मिली गर,उगता-लता रहता सूरज,वरना जीवन-भर क्रंदन है।किसका साथी नील गगन है।किसका जीवन हँसी-खुशी में,यदि तुमको मुसकान मिली तोइस दुनिया में रहकर बीता ?मुसकाओ सबके संग जाकरसदा-सर्वदा संघर्षों को,यदि तुमको सामर्थ्य मिला तोइस दुनिया में किसने जीता ?थामो सबको हाथ बढ़ाकरखिलता फूल म्लान हो जाताझाँको अपने मन-दर्पण मेंहँसता-रोता चमन-चमन है।प्रतिबिंबित सबका आनन है।कितने रोज चमकते तारें।कितने रह-रह गिर जाते हैं ?हँसता शशि भी छिप जाता,जब सावन-घन घिर आते हैं।(क) कवि दो eण के लिए मिली खुशी पर हँसने के लिए क्यों कह रहा है ?(ख) कविता में संसार की किस वास्तविकता को प्रस्तुत किया गया है?(ग) व रपष्ट कीजिए. “को अपने मन दर्पण में प्रतिबिंबित सबका आनन है।"(घ) संघर्ष, साम ( का वर्ण-विछेद कीजिए)(च) काव्या

0 answers asked by anonymous

तन्तु में तारों की अपेक्षा अधिक धारा बहती है
तन्तु का प्रतिरोध तारों की अपेक्षा कम होता है
तन्तु का प्रतिरोध तारों की अपेक्षा अधिक होता है
धारा प्रवाहित करने से केवल टंग्सटन धातु ही चमकती है
1 answer asked in विज्ञान by anonymous

तन्तु में तारों की अपेक्षा अधिक धारा बहती है।
तन्तु का प्रतिरोध तारों की अपेक्षा कम होता है।
तन्तु का प्रतिरोध तारों की अपेक्षा अधिक होता है।
धारा प्रवाहित करने से केवल टंगस्तन धातु ही चमकती है।
1 answer asked in विज्ञान by anonymous
Made with in India
...