जलवायु परिवर्तन पर भारत के प्रथम राष्ट्रीय कार्य योजना कब रुका अर्पित की गई थी ?

0 votes
20 views
asked in General Knowledge by

Your answer

Your name to display (optional):
Privacy: Your email address will only be used for sending these notifications.

Related questions

। निम्न गद्यांश को पड़कर निम्न प्रश्नों के उत्तर दीजिए इस संन्यासी ने कभी सोचा था या नहीं कि उसकी मृत्य पर कोई रोयेगा । लेकिन उस छड़ रोने वालो की कमी नही थी । इस तरह वह हमारे बीच से चला गया जो हममें से सबसे अधिक छायादार फल - फूल गध से भरा और सबसे अलग सबका होकर सबसे ऊंचाई पर , मानीय करुणा की दिवया चमक में लहलहाता आ खड़ा था, जिसकी स्मृति हम सबके मन में ,जो उनके निकट थे, किसी यज्ञ की पवित्र आग की आंच की तरह आजीवन बनी रहेगी , मैं उस पवित्र ज्योति की याद में श्रद्धानवत हूं । क) लेखक ने फादर कामिल बल्के को श्रद्धांजलि कैसे अर्पित की ? फादर बुल्के को छायादार फल - फूल गंध से भरा क्यों कहा गया है ? ख) किसकी स्मृति हमारे मन में है ? और वह किस तरह आजीवन हमारे मन में रहेगी ? लेखक के लिए फादर क्या थे?

0 answers asked May 16, 2019 by anonymous
मन समर्पित, तन समर्पितऔर यह जीवन समर्पितचाहता हूँ देश की धरती, तुझे कुछ और भी हूँ !माँ तुम्हारा ऋण बहुत है, मैं अकिंचन,किंतु इतना कर रहा फिर भी निवेदन -थाल में लाऊँ सजाकर भाल जब भी,कर दया स्वीकार लेना यह समर्पण !गान अर्पित, प्राण अर्पित,रक्त का कण-कण समर्पितचाहता हैं देश की धरती, तुझे कुछ और भी हूँ !माँज दो तलवार को, कुछ हो न देरी,बाँध दो कसकर कमर पर ढाल मेरी,भाल पर मल दो चरण की धूल थोड़ी,शीश पर आशीष की छाया घनेरी ।।स्वप्न अर्पित, प्रश्न अर्पित,आयु का क्षण-क्षण समर्पितचाहता हूँ देश की धरती, तुझे कुछ और भी हूँ !1. तन-मन और जीवन समर्पित करने पर भी कवि के मन में कुछ और भी देने की ichcha क्यों है ?2. मातृभूमि का ऋण चुकाने के लिए कवि क्या उपाय सुझाता है ?3. आशय स्पष्ट कीजिए :चाहता हूँ देश की धरती, तुझे कुछ और भी दें !”​

0 answers asked May 13, 2019 by anonymous
Made with in Patna
...